Stenographer क्या है? स्टेनोग्राफर कैसे बने

Stenographer क्या है?स्टेनोग्राफी एक लेखन पध्दति है जिसे शॉर्टहैंड भी कहां जाता है इसे हिन्दी में आशुलिपी भी कहते है। इस पध्दति से लेखन करने वाला व्यक्ति स्टेनेग्राफर कहलाता है। यह कोई नई पध्दति नही है विभिन्न सरकारी विभागों में बडे स्तर पर स्टेनोग्राफी का ही उपयोग किया जाता है। इसके लिए स्टेनोग्राफी में प्रशिक्षित और योग्यता रखने वाले अभ्यर्थीयों का चयन भी किया जाता है। इस आर्टीकल के माध्यम से हम जानेगें कि Stenographer क्या है? स्टेनोग्राफर कैसे बनें? और एक स्टेनोग्राफर के लिए क्या-क्या योग्यता होना अनिवार्य है? इसका विवरण नीचे दिया गया है।

Stenography क्या है?, stenographer meaning in hindi, stenographer kya hai,
stenographer क्या है, stenographer in hindi, स्टेनोग्राफर क्या है, Stenographer कैसे बनें?, स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?,
स्टेनोग्राफर की चयन प्रकिया,
SSC Stenographer Selection Process in Hindi, स्टेनोग्राफर सैलरी (Salary Of Stenographer),
ssc stenographer selection process in hindi,

Stenographer क्या है?

स्टेनोग्राफी या शोर्टहैंड के माध्यम से किसी पाठ या स्पीच का लेखन करने वाला प्रशिक्षित व्यक्ति स्टेनोग्राफर है। अर्थात स्टेनोग्राफी (आशुलिपी) में व्यावहारिक योग्यता रखने वाले व्यक्ति को Stenographer कहा जाता है। आशुलिपि में सामान्य लेखन की अपेक्षा अधिक तीव्र गति से लिखा जा सकता है।

विभिन्न सरकारी और गैर सरकारी विभागों में आशुलिपिक (स्टेनोग्राफर) की आवश्यकता होती है। जैसे न्यायालय, एजेसिंया, न्यूज एजेंसिया और भी अन्य विभाग जहां स्टेनोग्राफर की आवश्यकता होती है।

स्टेनोग्राफर का मतलब (stenographer meaning in hindi)

स्टेनोग्राफर का मतलब है कि बह प्रशिक्षित व्यक्ति जो स्टेनोग्राफी लेखन पध्दति जिसे आशुलिपी भी कहा जाता है। इस पध्दति के माध्यम किसी पाठ या स्पीच का लेखन करता है वही स्टेनोग्राफर होता है। एक स्टेनोग्राफर की टाईपिंग गति सामान्य लेखन की अपेक्षा अधिक तेज होती है।

Stenographer कैसे बनें?

कई शाशकीय संस्थानो और गैर शासकीय संस्थानों में स्टेनोग्राफी सिखाई जाती है। जिसे कोई भी व्यक्ति सीख सकता है आज के समय Stenography (आशुलिपी) सिखाने के लिए कई संस्थान जो हर शहर में मौजूद होते है। जहां आशुलिपी का प्रशीक्षण दिया जाता है

उम्मीदवार चाहे तो स्टेनोग्राफी सीखने हेतु सरकारी मान्यता प्राप्त पॉलिटेक्निक या आईटीआई संस्थान में प्रवेश ले सकता है।

स्टेनोग्राफी पूर्णतः Typing पर आधारित है। इसिलिए आपको स्टेनो टाईपिंग में निपुण होना होगा और इसका अभ्यास करना होगा क्योकि एक सफल स्टेनोग्राफर होने के लिए हिन्दी और अग्रेजी भाषा में 80 शब्द प्रति मिनट की गति होनी चाहिए अतः एक स्टेनोग्राफर होने के लिए आपकी स्टेनो टाईपिंग गति तीव्र होनी चाहिए

विभिन्न सरकारी और गैर सरकारी विभागों में टाईपिंग गती के आधार पर ही व्यक्ति का स्टेनोग्राफर के पद पर चयन किया जाता है।

स्टेनोग्राफर की तैयारी कैसे करें?

कई सरकारी विभागो और गैर सरकारी विभागों में स्टेनोग्राफर के पद पर भर्ती निकलती है कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा अलग से स्टेनोग्राफर की भर्ती आयोजित की जाती है। जिसमें कई उम्मीदवार आवेदन करते है।

स्टेनोग्राफर लिखित परीक्षा की तैयारी बाकी सभी प्रतीयोगी परीक्षा की तैयारी के समान है। जैसे अन्य प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करनी होती है वैसे ही इसकी तैयारी करनी होती है। वस अंतर इतना सा हो सकता है कि परीक्षा पैटर्न और सिलेबस अलग-अलग रहता है। लेकिन कुछ विषय सामान्य होते है जो कि सभी प्रतीयोगी परीक्षाओ में होते है जैसे सामान्य ज्ञान, करेंट अफेयर्स, रीजनिंग आदि

लेकिन अभ्यर्थी याद रखें स्टेनो टाईपिंग आशुलिपि का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है अतः इसका निरंतर अभ्यास करना जरूरी है। ताकी गती की तीव्रता बढाई जा सके

Stenographer Exam एवं चयन प्रक्रिया

सामान्यतः सरकारी विभागों में Stenographer Ka Exam समान ही होता है। यह आशुलिपी की चयन प्रक्रिया भी क्लर्क या डाटा एंट्री ओपरेटर की प्रतीयोगी परीक्षा के ही समान होती है वस अंतर केवल इतना होता है कि क्लर्क एवं डाटा एंट्री ओपरेटर में सामान्य टाईपिंग टेस्ट होता है एवं स्टेनोग्राफर के द्वितीय चरण में स्टेनो टाईपिंग टेस्ट होता है। आईए स्टेनोग्राफर की चयन प्रकिया पर एक नजर डालते है।

SSC Stenographer Selection Process in Hindi

कर्मचारी चयन आयोग एसएससी द्वारा आयोजित होने वाली आशुलिपिक भर्ती की परीक्षा 2 चरणो में पूरी होती है। जिसमें

  • 1. लिखित परीक्षा
  • 2. स्किल टेस्ट (स्टेनो टाईपिंग टेस्ट)
1. लिखित परीक्षा

लिखित परीक्षा में सामान्यतः अन्य प्रतियोगी परीक्षाओ की तरह ही सामान्य ज्ञान, सामान्य अग्रेजी, हिन्दी, गणित और रीजनिंग जैसे विषयों से प्रश्न पूछे जाते है। लिखित परीक्षा में मिलने वाले नंबर चयनित होने के लिए अहम भूमिका निभाते है इसीलिए इसकी लिखित परीक्षा की अच्छी तैयारी करना चाहिए ताकि अच्छे नंबर परीक्षा में प्राप्त हो सकें

2. स्किल टेस्ट (स्टेनो टाईपिंग टेस्ट)

लिखित परीक्षा में अर्हता प्राप्त करने वाले अभ्यर्थीयों को स्किल टेस्ट आशुलिपि टाईपिंग़ टेस्ट में शामिल होना होता है। जिसमें अभ्यर्थी को कम्प्यूट पर हिन्दी भाषा या अग्रेजी भाषा में 80 शब्द प्रति मिनट की गति से दिये गए पाठ को पूरा करना होगा इसमें उत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थी चयन के लिए आगे जाते है।

स्टेनोग्राफर सैलरी (Salary Of Stenographer)

स्टेनोग्राफर की सैलरी या वेतन उसके चयनित स्थान के आधार पर मिलती है और उसका चयन किस विभाग में हुआ है इस पर भी निर्भर करता है। लेकिन सामान्यतः एक स्टेनोग्राफर का वेतन लगभग 5200 – 20200 प्रतिमाह और ग्रेड पे 2600 के मध्य होता है। यह शुरुआत में दिया जाने वाला वेतन है जैसे-जैसे कर्मचारी की सेवा बढती है ऐसे में वेतन में भी बढोत्तरी होती रहती है। यह कोई निश्चित राशि नही है इसमें बदलाव भी हो सकता है। यह अनुमानित है जो कि ऑफिसियल नोटिफिकेशन में दर्शायी जाती है।

इस आर्टीकल के माध्यम से हमने जाना कि Stenographer क्या है? स्टेनोग्राफर कैसे बने? स्टेनोग्राफर का मतलब और इसकी सेलरी कितनी होती है यदि आपको Stenographer एवं Stenography के बारे में हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो शेयर जरूर करें एव नीचे दी गई लिंक के माध्यम से अन्य जानकारी भी पढ सकते है।

यह भी जानिए:

Leave a Comment